Saturday, July 5, 2008

यहां भी हंसने से बाज़ नहीं आता इंसान!

कई तकलीफों का मुफ्त इलाज है हंसी। ज़ाहिर है, कैसर होने की खबर पाने के बाद कोई हंसता हुआ डॉक्टर के कमरे से नहीं निकलता। लेकिन ये भी सच है कैंसर हजारों बार हंसने के मौके देता है। शर्त ये है कि दिल होना चाहिए, अपनी हालत पर हंसने का और दूसरों को हंसने देने का। हंसी कैंसर से जुड़ी चिंताओं को भुलाने का मौका देती है और मरीजों की जिंदगी के अंधेरे कोनों तक भी पहुंचने के लिए रौशनी की किरण को रास्ता बताती है। एक बीमारी ही तो हुई है, उसकी चिंता में आज जिंदगी जीने से क्यों रुका जाए भला! और अगर सचमुच जिंदगी कम बाकी है तब तो और भी जरूरी है कि सब कुछ किया जाए। भरपूर जी भी लिया जाए, जल्दी-जल्दी। ताकि कुछ बाकी न रह जाए।

तो जनाब पेश-ए-खिदमत हैं, कैंसर की दुनिया के कुछ चुटकुले। इनमें से कुछ अपने, कुछ उधार के हैं।



* सवाल- एक व्यक्ति जिसे बार-बार लिंफोमा (लसीका ग्रंथि का कैंसर) होता है?
जवाब- लिंफोमैनियाक।

* -गेहूं की कोमल बालियों का रस कैंसर को रोकता है।
सच जनाब, कभी घोड़े को कैंसर होते सुना है?

* -गाजर का सेवन कैंसर से बचाता है।
-सच जनाब, कभी खरगोश को कैंसर होते सुना है?

* -कैंसर कोई हंसी ठट्ठा नहीं है।
पूछिए उससे जो कैंसर से मर चुका है।

*-कैंसर बहुत तकलीफदेह होता है, सच कहा।
मेरी पत्नी की मौत कैंसर से ही हुई थी।
अब अपने हाथ से पका खाना खाने की असहनीय पीड़ा हर दिन झेल रहा हूं।

* -अगर बॉस या कंपनी से बदला लेना है, तो केस ठोक दीजिए कि नौकरी में तनाव की वजह से कैंसर हो गया। और देखिए मज़ा।

* -गठिया के दर्द से परेशान कोई बूढ़ा कैंसर के जवान मरीज को देखकर रश्क करता है- इसे मेरी तरह बुढ़ापा नहीं देखना पड़ेगा।

5 comments:

advocate rashmi saurana said...

hasi hasi me aapne bhut kaam ki post di hai. aabhar. jari rhe.

आर. अनुराधा said...

ये तो बताइये, पढ़ कर आपको कितनी हंसी आई?

अनूप भार्गव said...

अच्छे लगे चुटकले । ऐसे हालातों में हँसना जितना मुश्किल है उतना ही ज़रूरी भी । जौर्ज़ बर्नार्ड शा नें कहा था :
"Life does not cease to be funny when someone dies, as it does not cease to be serious when people laugh"
एक मेरा प्रिय जो शायद जौर्ज़ बर्न नें अपने अंतिम दिनों में कहा था :
"In my condition, I don't even buy green bananas anymore".

Pooja Prasad said...

nahi aai hansi kisis bhi joke pe. patni ke moutke baad uske haath ka khana kahne ko tadpte pati ki bhavnaaye hanss nahi paain. aap keh sakti hai me chutkule me chuteelapan nahi dhoondh pai.

Pooja Prasad

योगेन्द्र मौदगिल said...

वाह... मजा आ गया..

Custom Search