Thursday, April 8, 2010

मरीज न सही, डॉक्टर तो जानें इस मर्ज को!

महानगरों, खासकर दिल्ली में स्तन कैंसर जिस रफ्तार से बढ़ रहा है, डॉक्टर भी हैरान हैं। कारण कई हैं, जिनमें से एक लाइफ-स्टाइल भी है। सेहतमंद रहने के लिए अच्छा खाने और कसरत करने की नसीहतें तो कई बार दे चुकी हूं। फिलहाल खास तौर, पर दिल्ली की महिलाओं में कैंसर और स्तन से जुड़ी दूसरी समस्याओँ के मूल कारणों की पड़ताल करने की कोशिश कर रही हूं।

सबसे पहली बात है, स्तन की बीमारियों के बारे में जानकारी का पूर्णतः अभाव। स्तनों के बारे में भारतीय महिलाओं में जानकारी का कतई अभाव है। वे इसे बेहद निजी, शर्मिंदा करने वाले अंग के रूप में देखती हैं या फिर पुरुषों को रिझाने और उसी इस्तेमाल के अंग के रूप में सहेजती हैं। कभी हाथ-पैर-सिर में दर्द हो, परेशानी हो तो वह फौरन सबसे चर्चा करती है, पर स्तन में कुछ गंभीर हुआ-सा लगे तो भी किसी से चर्चा तक नहीं करती। मानो वह उसके जीवित शरीर का जीवित हिस्सा हो ही नहीं। स्तनों में गांठ होना, निप्पल से कोई सफेद या रंगीन (पीला, लाल, हरा कोई भी) पानी का निकलना, उसका आकार बेवजह बदलना, दूध पिलाने के समय समस्याएं, स्तनों में सूजन और उनका पक जाना जैसी दसियों समस्याएं महिलाएं आए दिन झेलती हैं, पर बिना किसी से कहे, चुपचाप। यह गलत है। स्कूलों में छोटी उम्र से ही लड़कियों को यह जानकारी मिलनी चाहिए, जो नहीं मिलती। मीडिया में भी कैंसर पर बात करना तो फैशनेबल है, लेकिन स्तन की दूसरी समस्याओं पर बिरले ही कुछ पढ़ने-देखने को मिलता है।

दूसरी समस्या डॉक्टरों से संबंधित है। कोई महिला मरीज सबसे पहले अपने नजदीक के, परिचित डॉक्टर के पास ही पहुंचती है। और उसकी बीमारी का भविष्य उस डॉक्टर की जानकारी और कुशलता पर निर्भर करता है। कई सर्वेक्षणों से बार-बार साबित हो चुका है कि आम फिजीशियन स्तन कैंसर और स्तन की दूसरी बीमारियों के बारे में बहुत कम जानते हैं। आश्चर्य हो सकता है, लेकिन वे भी आम जनता के बराबर ही भ्रम में जीते हैं। वे भी स्तन की गांठ, स्राव, दर्द, बदलाव आदि लक्षणों को नजरअंदाज कर दते हैं या फिर इन्हें संक्रमण जैसी कोई स्थानीय समस्या मानकर एंटीबायोटिक आदि का एक कोर्स तस्कीद कर देते हैं। जबकि इमेजिंग यानी अल्ट्रासाउंड और मेमोग्राफी, बायोप्सी या एफएनएसी जैसी नैदानिक जांचों की तत्काल जरूरत उन्हें महसूस होनी चाहिए। इस तरह बीमारी की पहचान में देर हो जाती है और बीमारी को खतरनाक हद तक बढ़ने का मौका मिल जाता है। दूसरी तरफ कई बार अतिउत्साह में छोटी लड़कियों की भी मेमोग्राफी कर दी जाती है जबकि मेडिकल नियमों के अनुसार 35 साल से कम उम्र की महिला की मेमोग्राफी अपरिहार्य स्थितियों में ही करनी चाहिए।

तीसरी बात है, स्तन कैंसर और स्तन की दूसरी समस्याओं का गलत तरीके से इलाज। यह तथ्य भी डॉक्टरों के बीच सर्वेक्षणों से सामने आया है कि अकुशल और अधूरी जानकारी वाले डॉक्टर स्तन कैंसर, निप्पल से स्राव या स्तन के फोड़े और सूजन का इलाज मनमाने ढंग से कर देते हैं। दूध पिलाने के समय अक्सर महिलाओं को स्तन में सूजन और गांठ यानी मास्टिटिस से जूझना पड़ता है। थोड़े-बहुत घरेलू इलाज के बाद मरीज दर्द से परेशान, डॉक्टर के पास पहुंचता है और डॉक्टर बच्चे का दूध छुड़ा कर स्तन में चीरा लगा देते हैं ताकि जमा हुआ दूध, मवाद निकल जाए। यह तो हुआ डॉक्टर के लिए सरल, मशीनी तरीका, जिसे कोई अंतर्राष्ट्रीय मानक मंजूर नहीं करता। इसके लिए बिना चीरा लगाए सुई से मवाद निकालने और बच्चे को दूध पिलाते रहने का कायदा दुनिया के डॉक्टरों ने मंजूर किया है। लेकिन हमारे यहां कम ही डॉक्टर/सर्जन इसे जानते या मानते हैं।

कई बार बिना मेमोग्राफी, अल्ट्रासाउंड, बायोप्सी आदि के टेढ़ा-मेढ़ा चीरा लगाकर स्तन कैंसर तक का इलाज कर दिया जाता है। बाद का इलाज यानी कीमोथेरेपी, रेडियो थेरेपी आदि किए बिना मरीज को घर भेज दिया जाता है। इसका नतीजा होता है, कुछ महीनों या साल भर बाद बीमारी का फिर उभरना और ज्यादा तेजी से, मारक अंदाज में उभरना। इस समय तक बीमारी भीतर ही भीतर कई अंगों तक फैल चुकी होती है। विशेषज्ञ के लिए ऐसे मरीज का इलाज करना टेढ़ी खीर ही होता है। ऐसे में हजारों रुपए खर्च करने के बावजूद मरीज का इलाज कितना कारगर होगा, इसमें शक ही होता है।

चौथी बात, अगर कोई मरीज शुरुआत में ही विशेषज्ञ के पास जाना चाहे तो उसे कहां मिलता है कोई स्तन विशेषज्ञ? उसे पता ही नहीं चल पाता कि कौन सा डॉक्टर स्तन की बीमारियों को ज्यादा समझता है। कारण यह है कि ऐसे विशेषज्ञों की बेहद कमी है। और यह स्थिति गांव-कस्बे में ही नहीं दिल्ली जैसे महानगर में भी है। और अंत में भीड़-भाड़ वाले बड़े सरकारी अस्पताल या फिर बेहिसाब महंगे 5 सितारा अस्पताल में ही उसे गति दिखती है, जिससे वह हमेशा बचने की कोशिश करता रहा था।

अगर कोई मरीज सौभाग्य से विशेषज्ञ डॉक्टर तक पहुंच भी गया तो अच्छे डॉक्टर का काम होना चाहिए कि वह मरीज को बीमारी और इलाज के बारे में बताए, उसकी प्रक्रिया समझाए, नतीजे बताए और उसे उपलब्ध विकल्पों के बारे में भी जरूर ही बताए। पर ऐसा कब हो पाता है? डॉक्टर लिख देता है और मरीज बिना जाने-समझे बल्कि पढ़े बिना भी (क्योंकि जटिल हस्तलेख में, जटिल भाषा में पर्चा पढ़ना हरेक के बस का नहीं) बस, रोबोट की तरह उन निर्देशों का पालन करता रहता है।

किसी महंगी दवा का सस्ता विकल्प बाजार में उपलब्ध हो तो भी उसके पास ऐसा करने की चॉइस नहीं होती क्योंकि हमारे देश में दवाओं के जेनेरिक नाम यानी रसायन का नाम लिखने के बजाए ब्रांड का नाम लिखने का चलन है, जो मरीज के खिलाफ जाता है। यह वैसा ही हुआ जैसे किसी को जींस खरीदनी हो तो उसके पास डेनिम, कॉटन या कॉर्डरॉय जैसे नहीं बल्कि लीवाइज, रैंगलर या डीज़ल जैसे विकल्प सामने रख दिए जाएं। ऐसे में जानकारी के अभाव में वह गरीब मरीज हर हाल में महंगी दवाएं खरीदने को मजबूर होगा क्योंकि बराबर असर वाली सस्ती दवाओं के बारे में उसे कौन बताए? उसे अपनी जिंदगी, अपने इलाज, अपने शरीर के बारे में इलाज, विकल्पों को जानने का हक कोई डॉक्टर, अस्पताल नहीं देता। क्या यह भी मानवाधिकार हनन का मामला नहीं होना चाहिए?

11 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सटीक लेख है!

भूतनाथ said...

लेकिन इन सब बातों का कोई उपाय भी तो नहीं है....क्यूँ कि नारी में सदियों से भरा हुआ संकोच,और पुरुष में दबी आदिम सी और कभी ख़त्म ना होने वाली पिपासा ही बहुत सी समस्याओं की जन्मदात्री है और मुश्किल यही है जब तक पुरुष की कलुषित मानसिकता दूर नहीं होती....तब तक नारी का संकोच....और क्या आप यह सोच भी सकती हो कि पुरुष नाम की जाति कभी बदलेगी.....??

आनंद said...

यदि संभव हो तो इस प्रकार की जानकारी भी प्रदान करें जैसे :
दिल्‍ली और इसके आसपास के क्षेत्र में जानकारी स्‍तन विशेषज्ञ कौन-कौन से हैं? यदि कोई समस्‍याग्रस्‍त सलाह लेना चाहे तो कहाँ जाए?
- आनंद

आर. अनुराधा said...

जरूर आनंदजी,
जल्द ही इस बारे में जानकारी इकट्ठा करके सबके साथ बांटूंगी। सुझाव के लिए धन्यवाद।

Dr Parveen Chopra said...

आप के लेख बहुत बढ़िया होते हैं जिन्हें पढ़ कर अकसर मैं सोचता हूं कि ऐसे लेख तो इस देश की हर मां-बेटी-बहन तक पहुंचने ही चाहिये।

अगर किसी तरह से वक्ष के स्वतः परीक्षण को ही खूब प्रचलित कर दिया जाए तो भी बात बने --लेकिन आप ठीक कह रही हैं कि महिलाएं अंदर ही अंदर बिना किसी को बताए हुए इस तरह की तकलीफ़ों से जूझती रहती हैं।

लेकिन जो भी हो, आप जैसे महान लोगों का यही कर्तव्य है कि जन-जागरण की मशाल को जगाए रखा जाए।

वैसे तो मैं भी बहुत ज़्यादा अनियमित हूं लिखने में ---लेकिन आप से भी अनुरोध है कि नियमित लिखा करें --- जो लोग मन से लिखते हैं, उन्हें पढ़ना अच्छा लगता है।

सुजाता said...

महत्वपूर्ण जानकारी !
यह सच है कि अपने इलाज और विकल्पों को जानने का मरीज़ को हक होना चाहिए पर मैने अक्सर देखा है कि बीमारी की डीटेल पूछने पर डॉक़्टर इरिटेट हो जाते है,और मरीज़ देखने का प्रेशर उन्हे सवालों पर चिढा देता है । यह सरासर गलत रवैया है।

कारण यह है कि सस्ती दवा का विकल्प पूछने पर आपको यह डाँट भी मिल सकती है कि देख लो फिर तकलीफ दूर नही होगी तो हमे मत कहना ।भयभीत होकर ,मेडिकली इल्लिटेरेट हम डॉक़्टर की बात मानने को मजबूर हो जाते है।
हमे जागरूक होने और जानकारी हासिल करने की सख्त ज़रूरत है !

Surendra Singh Bhamboo said...

बहुत ही अच्छी जानकारी प्रदान की है आप धन्यवाद के पात्र है।

sanjukranti said...

अत्यंत सटीक एवं ज्ञानवर्धक जानकारी...... धन्यवाद !

भुवनेश शर्मा said...

नमस्‍कार अनुराधाजी,
आपको मेल करना चाह रहा था पर आपके प्रोफाइल पर आईडी उपलब्‍ध नहीं है
मैं आपकी पुस्‍तक कैंसर विजेता की डायरी पढ़ना चाहता हूं...मुझे स्‍वयं इस विषय पर जानकारी इकट्ठा करना अच्‍छा लगता है...मेरी माताजी की मृत्‍यु भी स्‍तन-कैंसर के कारण हुई...
कृपया मेरे मेल आईडी पर पुस्‍तक कहां से व कैसे खरीदी जा सकेगी इसका विवरण अवश्‍य भेजें
मेरा ईमेल पता- bhuvnesh.ad@gmail.com
शुक्रिया

Anonymous said...

मेरी पुस्तक इंद्रधनुष के पीछे-पीछे राधाकृष्ण प्रकाशन (राजकमल), दरियागंज, नई दिल्ली से प्रकाशित हुई है। अगर आप दिल्ली में हैं तो प्रकाशक से ही सीधे, या फिर अपने शहर के पुस्तक विक्रेताओं से खरीद सकते हैं।

टीम हमारीवाणी said...

आपके ब्लॉग की चर्चा हमारीवाणी ई-पत्रिका में हुई है...

http://news.hamarivani.com/archives/750

Custom Search